From Ranjeeta to Author Ranjeeta

Proud moment as I was interviewed for yourquote group😊

A journey of transformation 😊 

https://stories.yourquote.in/meet-ranjeeta-ashesh-of-yq-an-author-cum-artist-who-mesmerizes-with-her-words-6877bf24c64b

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

 My book ” Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah ” available on amazon 😊 

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Do connect on instagram 

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh 

मै एक लेखिका हूँ 

लिखना चाहती हूँ हर वो बात,

जो दिल को मेरे लुभाती है, 

लिखना चाहती हूँ हर वो बात, 

जो आँखो को मेरे सुहाती है।

मैने बचपन से लेकर आज तलक, 

सपनो को बनते बिखरते देखा है, 

मैंने अपनी लेखनी को,

कई पायदान चढ़ते उतरते देखा है।

अच्छा बुरा जो लिखा,

मेरा अपना प्रतिबिम्ब है, 

सुकुन दिया हर पल इसने,

जैसे चिराग से निकला कोई जिन्न है।

मैने कलम के साथ एक रिश्ता जोड़ा है,

कागज़ पर अपने जज्ब़ात को उकेरा है,

माँ शारदे की अनुयायी,उसकी सेविका हूँ,

गर्व से अभिभूत,मै एक लेखिका हूँ।

रंजीता अशेष

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

My book ” Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah ”  is availableon amazon 

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Do connect on instagram 

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh 

मुझको तो शिवजी भाते 

अपनी लाडली बीटिया से,

बाबुल ने पूछा, बड़े दुलार से,

‘किस प्रभु सरीखा वर मै ढूँढू’,

जो जीवन,भर दे तुम्हारा प्यार से।

राम सी जिसमे शीतलता हो,

श्याम सी जिसमे चपलता,

सिद्धार्थ सा जिसमे तेज हो,

और महावीर सी सरलता।

सुनकर हृदय संताप किया,

बोली वो, ऐसा मैने क्या पाप किया,

नही चाहिए वर इनमे से कोई,

नारी को जैसे श्राप दिया।

माना सब भगवान है,

मानव जाति पर एहसान है,

पर दूल्हा अगर इन सा हो तो,

नारी जाति का अपमान है।

दुनिया के उद्धार की खातिर,

पत्नी से क्यों मुँह मोड़ आए,

साथ जीने की कसमे खाकर,

बीच मझधार क्यों छोड़ आए।

मुझको तो शिव जी भाते,

जो पार्वती संग रास रचाते, 

अर्धनारीश्वर का रूप धरकर,

पूरे जग मे धूम मचाते।

उनके जैसा ज्ञानी ढूँढो,

उनके जैसा सीधा और शांत ,

हर ऋतु ,हर बाधा मे साथ रहे

चाहे हो भीड़,चाहे एकांत।

© रंजीता अशेष

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

My book “Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah “available on amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Connect with me on Instagram

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh 

Poem close to my heart😊


It was an event conducted by Aagman group…I recited my poem NANHI PARI, which I wrote for my daughter Ipshita..who was born preterm.It was struggle of we two.

उसे जिन्दा रहना था,और मुझे उसे जिंदा रखना था।वास्तविक संघर्ष की कहानी ।

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

My book ” Sushmaanjali …ek kaavya sangrah ” available on amazon 

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Do connect on instagram 
http://www.instagram.com/ranjeetaashesh 

Gym’a’holic

Strength combined with power,

focus combined with will,

no stone can be unturned,

If you are regular with your drill.

,

Gym gave me all I wanted,

it helped me to fight depression,

all my energy was chanellized,

when I was buzy doing leg extension.

 

The challenge it throws,

Is not easy to attain,

the hard work does pay,

Since you are bound to ignore your pain.

 

It made me fit and lean,

which lifted my confidence,

came out a butterfly from cocoon,

who was ready to acknowledge  her presence.

 

Gym is a place to carve dreams,

It is full of positive energy,

the equipments and peppy music,

combine to create wonderful synergy.

 

Yes,I am Gym’a’holic,

addicted to fitness by walking miles,

It completely changed my persona,

which gave thousands of reason to smile.

Ranjeeta Ashesh

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

My book ” Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah ” available on amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Do connect on instagram

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh

प्रेम

Poem for which I got 3rd prize

It was picture prompt.The picture was given and we had to write poem on it

भोले सा मन चंचल

भोले सा मन पावन

तुम संग रहना हर पल मुझको

क्या बरखा क्या सावन।

 

एक है आत्मा और दो शरीर

घाट पर बैठे देखे बहता नीर

आँखो मे सपने हज़ारो लिए

बैरी मन होता बड़ा अधीर।

 

मोर भी पंख खोलने को उत्सुक

खुशी से झूमने को है बेकल

भोले से मै नैन चुराऊँ

छूते ही उसके मच जाती हलचल।

 

प्रेम मे डूबा सारा नज़ारा है

मेरा दिल धड़कन सब तुम्हारा है

अर्पण तुमको हर साँस मेरी

दौड़ी चली आई बेसुध मै

जब जब तुमने पुकारा है।
© रंजीता अशेष

My book “Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah ” available on amazon 

http:// http://www.amazon.in / dp /9384535605

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

Connect with me on instagram 

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh 

पुरूष 

मै नारी पुराने विचारों की

अच्छी लगती थी पहले की रीत

पुरूषों से ना था कोई भेद

ना था उनसे संघर्ष, हार या जीत।

 

बेटी को देख पिता की मुस्कान

गर्व से और बड़ जाती थी

संस्कारों की डोर मे बँधी

बेटी को दहलीज कभी ना सताती थी।

 

भाईयो संग वो हँसती खेलती

सबका प्यार वो पाती थी

हर कदम उससे आगे चलते

ताकि बहना की आँखों से

कोई आँसू ना छलके।

 

घर के काम को अपना समझ निपटाती थी

दो रोटी बनाने मे वो कितना इतराती थी

जिस पिता,भाई ने इतना लाड किया

उनके थक जाने पर सर वो दबाती थी।

 

अपने पैरो पर खड़ी हुई,सपने हुए साकार

शादी हुई धूमधाम से बरसा सबका प्यार

पति के साथ सात जन्मो की कसम खाई

एक छोटी सी रंगीन दुनिया बसाई।

 

हर रूप मे पुरूष ने उसे मान दिया

पिता,भाई,पति सबने सम्मान किया

फिर क्यों पुरूष से संघर्ष पर लगी है नारी

क्यों अपने को असुरक्षित समझे, बन बेचारी।

 

देव का रूप है ये

इनका अपमान गँवारा नही

पुरूष नारी दोनो अलौकिक हैं

जीवन इनके बिना कभी सँवारा नही।

© रंजीता अशेष

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/
My book “Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah “available on Amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Connect with me on instagram

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh

Trip to remember😊

It was trip to Bhopal …back to back events…media coverage…wonderful review of my book “Sushmaanjali. ..Ek kaavya Sangrah”…I was invited as a guest poet by aakashwani,doordarshan. 

1.Recoring at Aakashwani:

2.Reading session at internationally acclaimed NGO…Parvarish the museum school

3.Doordarshan recording..

4.School reunion…

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

My book “Sushmaanjali. ..Ek kaavya sangrah “available on amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Do connect on instagram 

http://www.instagram.com/ranjeetaashesh