बाबुल

कैसे पराया होने लगा,

ये मेरा अपना घर,

जिन खुशियों मे साथ रहे

अब उनसे ही, हो जाऊँगी बेखबर।

 

ये कैसी रीत समाज की,

फूलों के गुलिस्तां का एक सुमन,

गया  किसी की बगिया महकाने,

हो गया किसी को अर्पण ।

 

जिस माली ने उसको बोया,

सींचा कितने प्यार से,

पल-पल उसकी रक्षा करता,

धूप,बर्फ ,बौछार से।

 

उसके आँगन में वो खिलती,

पाती अपनी साख वो,

उसको छोड़ चल दी ,

थामे अजनबी का हाथ वो।

 

एक  विश्वास मन मे लिए,

प्रीत की डोर से बाँधकर,

रहेगी उसकी सुगंध अलौकिक,

रखेगा  वो अजनबी सँभालकर ।

 

जिस आँगन की माटी मे खेली

जहाँ गूँजे हर पल उसकी हँसी ठिठोली,

अचानक कैसे बाबुल को छोड़

साजन की हो ली।

 

याद आने लगती बरबस,

बाबुल की दुलार भरी बातें,

कुछ तो छूट रहा है मेरा,

जिसको तकती मेरी आँखें।

 

बिदाई की बेला थी,

मिल रहा था नया जहाँ,

पर मै अकेली थी,

विदा होते होते,

आँखें मेरी भर आई,

बाबुल के आँगन की कली,

आज हो गई थी पराई।

 

© रंजीता अशेष

Do visit my Facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

My book “Sushmaanjali. ..Ek kaavya sangrah “available on amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Advertisements

51 thoughts on “बाबुल

  1. बहुत प्यारी कविता है.
    लेकिन समाज का – शादी के बाद लड़कियों का “पराई ” होने वाला Concept मुझे नही जंचता है.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s