शतरंज 

#Fight against depression

गमों के साये मे कटती मेरी रात है,

ना जाने किस आहट पर छुपी क्या बात है

हर पल दिल थम सा जाता है

जब ज़िदगी के शतरंज मे राजा खाता मात है।

 

अब और नही सहना मुझको ज़िन्दगी

आँसु बना लिए है आग मैंने

आ जाओ और हराओ मुझको

शतरंज की बिछा ली है बिसात मैंने ।

 

जहाँ राजा मेरा शरीर है

तो मस्तिष्क मेरा वज़ीर है

दिल, मेरी रानी है तो

मज़बूत इरादे सेनानी है।

बुलंद हौसले घोड़े हैं

तो दृढ़ता गज से हथौड़े हैं

साहस,उस ऊँट के समान है

जो रेगिस्तान मे ढूँढता अपना मुकाम है।

 

बस और क्या चाहिए मुझे

जब सारी फौज मेरे साथ है

आने दो किसी भी तूफान को

अब डर कैसा,जब सामने मज़बूत फौलाद है ।

 

गम से टकराना है मकसद मेरा

चीर डालूँगा मै ये घना अंधेरा

मैं अकेला नही,साथ मेरे राज मेरा

लेकर आऊँगा कल, मै नया सवेरा।

 

© रंजीता अशेष

 

Do visit my facebook page: https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

 

My book “Sushmaanjali. .Ek kaavya sangrah” is available on amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

 

Follow my writings on yourquote:

http://www.yourquote.in/ranjeeta-ashesh-o0g/quotes/

Advertisements

27 thoughts on “शतरंज 

  1. You write beautifully…!!
    Congratulations!
    I have nominated your blog for the “One LovelyBloggers Award”
    There is no compulsion to accept it. And no urgency to complete it forthwith. Do it at your will.
    If you are interested to be featured in a guest post on my blog you can send a mail at ranjeetanathghai@gmail.com
    If you are interested in it and have no issues accepting it you may please follow the link. More about this nomination is at
    https://atrangizindagieksafar.com/2017/03/15/one-lovely-blog-award-2/

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s