ख्व़ाब 

वो पल मानो वहीं थम सा गया,

मेरा मन ना जाने किस में रम सा गया,

बचपन से जो सोचा था कभी,

वो अजनबी मुझे अचानक जम सा गया ।

 

सब कुछ एक सपना सा लगे,

कैसे कोई अचानक अपना सा लगे,

ना जाने किसने दीवाना किया मुझे,

अब तो हर लम्हा बेगाना सा लगे ।

 

जो ख्व़ाब था कभी,

उसको चेहरा मिल गया,

मिलने को जो आतुर थे कभी,

उन नैनो को बसेरा मिल गया ।

 

यूँ ही कैसे टकरा जाते हैं दो अन्जाने,

रास्तो पर चलते- चलते ही बन जाते है  अफ़साने,

जिसके प्यार से जीवन खिल जाता है,

कोई तो बात होगी जो लाखों मे,

एक हमसफ़र मिल जाता है ।

 

© रंजीता अशेष

My book ” Sushmaanjali. ..ek kaavya sangrah”available on amazon

http://www.amazon.in/dp/9384535605

Had media coverage too:

Do visit my page

https://www.facebook.com/Sushmaanjali-1168170113206168/

Do follow me on yourquotes:

http://www.yourquote.in/ranjeeta-ashesh-o0g/quotes/

Advertisements

61 thoughts on “ख्व़ाब 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s